Print

Sixteenth Loksabha

an>

Title: Need to identify and deport Rohingya people living in India in an illegal manner.

 

श्री गजानन कीर्तिकर (मुम्बई उत्तर पश्चिम) ः यह सभी जानते हैं कि पश्चिम म्यांमार से गैर कानूनी तरीके से भारत में घुसपैठ करते हुए हजारों की संख्या में रोहिंग्या लोग कश्मीर के साथ ही देश के कुछ भागों में आकर बसे हैं और निरन्तर बस रहे हैं। वर्तमान में कश्मीर की अशांतमय स्थिति को देखते हुए रोहिंग्या लोग भी काफी प्रमाण में जिम्मेदार हो सकते हैं, इसके कुछ प्रमाण भी मिले हैं। गैर कानूनी तरीके से रहने के कारण भविष्य में इनसे भारत की एकता एवं अखंडता के खतरे में पड़ने की आशंका को टाला नहीं जा सकता। भारत सरकार को इसकी जानकारी रहते हुए भी रोहिंग्या लोगों को भारत में अवैध रूप से कैसे घुसने दिया गया, यह चिंता की बात है। दुश्मन देश इन रोहिंग्या लोगों का भारत में आतंक फैलाने में भी सहायता ले रहा है। ऐसा पाया गया है कि कुछ रोहिंग्या लोगों को आधार कार्ड व पैन कार्ड जैसी सुविधा भी कुछ भ्रष्ट अधिकारियों द्वारा रिश्वत लेकर प्रदान की गई। जानकारी है कि भारत सरकार इस प्रकरण पर सख्त कदम उठाने वाली है, लेकिन कब? मेरी सरकार से मांग है कि सरकार को भारत में गैर कानूनी तरीके से रह रहे रोहिंग्या लोगों की पहचान करते हुए उनको उनके देश तुरंत वापस भेजना चाहिए और म्यांमार-भारत की सीमा को मजबूत किया जाये जिससे आगे कोई खुली सीमा से भारत में प्रवेश न कर पाये।

 


an>

Title: Need to identify and deport Rohingya people living in India in an illegal manner.

 

श्री गजानन कीर्तिकर (मुम्बई उत्तर पश्चिम) ः यह सभी जानते हैं कि पश्चिम म्यांमार से गैर कानूनी तरीके से भारत में घुसपैठ करते हुए हजारों की संख्या में रोहिंग्या लोग कश्मीर के साथ ही देश के कुछ भागों में आकर बसे हैं और निरन्तर बस रहे हैं। वर्तमान में कश्मीर की अशांतमय स्थिति को देखते हुए रोहिंग्या लोग भी काफी प्रमाण में जिम्मेदार हो सकते हैं, इसके कुछ प्रमाण भी मिले हैं। गैर कानूनी तरीके से रहने के कारण भविष्य में इनसे भारत की एकता एवं अखंडता के खतरे में पड़ने की आशंका को टाला नहीं जा सकता। भारत सरकार को इसकी जानकारी रहते हुए भी रोहिंग्या लोगों को भारत में अवैध रूप से कैसे घुसने दिया गया, यह चिंता की बात है। दुश्मन देश इन रोहिंग्या लोगों का भारत में आतंक फैलाने में भी सहायता ले रहा है। ऐसा पाया गया है कि कुछ रोहिंग्या लोगों को आधार कार्ड व पैन कार्ड जैसी सुविधा भी कुछ भ्रष्ट अधिकारियों द्वारा रिश्वत लेकर प्रदान की गई। जानकारी है कि भारत सरकार इस प्रकरण पर सख्त कदम उठाने वाली है, लेकिन कब? मेरी सरकार से मांग है कि सरकार को भारत में गैर कानूनी तरीके से रह रहे रोहिंग्या लोगों की पहचान करते हुए उनको उनके देश तुरंत वापस भेजना चाहिए और म्यांमार-भारत की सीमा को मजबूत किया जाये जिससे आगे कोई खुली सीमा से भारत में प्रवेश न कर पाये।

 


Developed and Hosted by National Informatics Centre (NIC)
Content on this website is published, managed & maintained by Software Unit, Computer (HW & SW) Management. Branch, Lok Sabha Secretariat