Print

Sixteenth Loksabha

an>

Title: Need to provide stoppage for trains at Maninagar railway station on Ahmedabad-Mumbai rail route.

 

श्री परेश रावल: मैडम, अहमदाबाद रेलवे लाइन के लिए देश का एक बहुत ही व्यस्त रूट है। पूरे देश में सबसे ज्यादा इसी रूट में गाड़ियाँ आती हैं। गुड्स ट्रेन से लेकर पैसेंजर, मेल, एक्सप्रेस, राजधानी, दुरन्तो आदि ट्रेनें इस रूट पर चलती हैं और देश के सभी प्रदेशों को जोड़ती है। अहमदाबाद से पहले करीब चार किलोमीटर की दूरी पर मणिनगर रेलवे स्टेशन है। वह अहमदाबाद का एक महत्वपूर्ण एरिया है, सबसे ज्यादा आबादी उसी इलाके में है, आप यह कह सकते हैं कि अहमदाबाद की लगभग एक-चौथाई आबादी मणिनगर में बसती है। ...(व्यवधान) मणिनगर और अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के बीच लगभग सभी ट्रेन्स सिगनल न मिलने के कारण रुकती हैं, कभी पांच मिनट, कभी दस मिनट और अगर सुर लग गया तो कभी-कभी आधा-आधा घण्टा ट्रेन्स वहां खड़ी रहती हैं।...(व्यवधान) लेकिन इसका फायदा यात्रियों को बिल्कुल नहीं मिलता है।...(व्यवधान) होता यह है कि ट्रेन रुकी है तो सभी...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : इनका भी सुर अच्छा लग जाए, ऐसी प्रार्थना करें।

…(व्यवधान)

श्री परेश रावल: अगर वहां पर ट्रेन रुकती है तो लोग दुस्साहस भी करते हैं, जम्प भी करते हैं और कभी सामने ट्रैक पर गाड़ी आने से एक्सीडेंट्स भी होते हैं, इस तरह काफी लोगों की जान भी गयी है।...(व्यवधान) मेरा कहना है कि अगर मुंबई से अहमदाबाद आने वाली ट्रेन्स का सिर्फ एक या डेढ़ मिनट के लिए मणिनगर पर स्टॉपेज मिले तो यात्रियों को भारी सुविधा होगी, वे यहां से लोकल सिटी बसेस एवं बीआरटीएस का भी लाभ ले सकेंगे, जिसके परिणामस्वरूप अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के पास ट्रैफिक भी कम रहेगा, लोगों को आर्थिक सुविधा भी रहेगी, अति मूल्यवान आयातित पेट्रोल की बचत होगी, लोगों के टाइम की बचत होगी।...(व्यवधान) अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के आस-पास बड़ी-बड़ी मार्केट्स हैं, वहां पर ट्रैफिक की भारी समस्या है, अगर मणिनगर में ट्रेन्स का स्टॉपेज होता है तो यह समस्या भी कम हो जाएगी। अहमदाबाद रेलवे स्टेशन में बहुत सारे प्लेटफार्म्स हैं, बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को एक प्लेटफार्म क्रॉस करके दूसरे प्लेटफार्म पर जाने में दिक्कत होती है और मणिनगर रेलवे स्टेशन में एक ही प्लेटफार्म है, तो लोगों को उसका भी लाभ मिलेगा।...(व्यवधान) आपके माध्यम से मेरी मांग है कि यह सुविधा यात्रियों एवं लोगों के फायदे के लिए रेलवे मंत्री जी उपलब्ध कराएं। धन्यवाद।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष :

 

श्री भैरों प्रसाद मिश्र,

 

कुँवर पुष्पेन्द्र सिंह चन्देल एवं

 

डॉ. किरिट पी. सोलंकी को श्री परेश रावल द्वारा उठाए गए विषय के साथ संबद्ध करने की अनुमति प्रदान की जाती है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : श्री ज्योतिरादित्य जी, बोलिए। मैं आपको एलाऊ कर रही हूं, लेकिन लिस्ट में हमेशा बाकी लोगों पर भी अन्याय हो रहा है। यह पद्धति ठीक नहीं है। बोलिए।

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया (गुना) : अध्यक्ष महोदया, मैं आपका ध्यान दो शर्मनाक घटनाओं की तरफ आकर्षित करना चाहता हूं।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं आपकी भी सुन रही हूं।

…(व्यवधान)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA : Madam Speaker has allowed me. 

THE MINISTER OF URBAN DEVELOPMENT, MINISTER OF HOUSING AND URBAN POVERTY ALLEVIATION AND MINISTER OF PARLIAMENTARY AFFAIRS (SHRI M. VENKAIAH NAIDU): What is this?… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: Why are you opposing it?  Madam Speaker has allowed me to speak. The Chair has allowed me to speak… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU:  Madam, the Parliamentary Forum cannot be misused to dismiss a State Government… (Interruptions)  A State Government cannot be defamed… (Interruptions)  For one hour, they did not allow the business to transact.  They should have the patience.… (Interruptions) They should take the permission of the Chair and then raise it.… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: The Speaker, the Chair has allowed me… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU: You cannot eat the cake and have it again… (Interruptions)

SHRI K.C. VENUGOPAL (ALAPPUZHA): You are criticising the Chair’s ruling… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: You are criticizing the hon. Speaker… (Interruptions)

श्री एम. वैंकैय्या नायडू : चुनी हुई सरकार को गालियां दिया...(व्यवधान) चुनी हुई सरकार को गालियां देना और फिर बाद में इश्यू उठाना, ये दोनों बातें कैसे चलेंगी?...(व्यवधान) मैडम, आप थोड़ा देख लीजिए। रूल्स के मुताबिक नोटिस दिया है तो...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपसे बात करना,...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपकी अनुमति लेकर बोलें, हमें आपत्ति नहीं है। ...(व्यवधान) हम शुरू से कह रहे हैं कि सरकार सभी विषयों के बारे में चर्चा करने के लिए तैयार है, गृहमंत्री जी भी यहां बैठे हैं।...(व्यवधान) मगर एक घण्टे तक हंगामा किया।...(व्यवधान) चुनी हुई पंजाब सरकार को बदनामन करने के लिए नारा दिया और अब भाषण करना चाहते हैं।...(व्यवधान) मैडम,  पहले गलत आरोप लगाना, हंगामा करना और बाद में भाषण देना, दोनों चीजें नहीं चल सकती हैं।...(व्यवधान) You cannot eat the cake and have it again. Please consider, this is not a good practice because every day, it is happening every day, now. I urge upon the hon. Speaker, please understand the sentiments of the House.  My Government in Punjab is an elected Government… (Interruptions)  Anything happening in any State, you cannot hold the State Government responsible… (Interruptions)  Then, you have to dismiss all the  Governments… (Interruptions) कलबुर्गी मामले के लिए क्या कर्नाटक सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) दाभोलकर मामले के लिए महाराष्ट्र की पिछली सरकार को डिसमिस करना था क्या?...(व्यवधान) दादरी घटना के लिए क्या उत्तर प्रदेश सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) जो दादरी की घटना हुई, क्या उसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार को बर्खास्त करना है? नहीं करना चाहिए।...(व्यवधान) मर्यादा होनी चाहिए, मर्यादा का पालन होना चाहिए।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : विजया जी, आप बैठिए। मैं समझ रही हूं।

…(व्यवधान)

HON. SPEAKER:  Shrimati Bijoya Chakravartyji, please take your seat.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Please take your seats.  I am on my legs. आप सभी विभिन्न पार्टियों के 300 से ज्यादा सदस्य हैं, मैं आपका दर्द भी समझ रही हूं। आपको भी, एक प्रकार से, किसी की तानाशाही सहन करना पड़ रही है, लेकिन मैंने इसीलिए कहा भी है कि दूसरों का अधिकार मार कर, वे घण्टा भर ऐसा करते रहे, उसके बाद भी मैं उनको एलाऊ कर रही हूं। यह बात भी सही है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : अब मैंने उनका नाम लिया है, उनको एलाऊ         किया है। सभी से हमेशा मेरी रिक्वेस्ट रहती है कि स्टेट की बात यहां नहीं उठानी है। मुझे लगता है ज्योतिरादित्य जी दो-तीन बार संसद सदस्य रह चुके हैं, इसलिए इस नियम को वह भी अच्छी तरीके से जानते हैं और उसी तरीके से वह बात करेंगे। उसी तरीके से बात करेंगे। I am not allowing.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Nothing will go on record.

… (Interruptions)*

माननीय अध्यक्ष: मैंने पहले ही कहा है कि राज्य के मामले यहां नहीं उठेंगे।

...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: रमा देवी जी, आप एक मिनट बैठ जाएं। ज्योतिरादित्य जी, मैंने पहले ही कहा है कि स्टेट की बात यहां पर नहीं उठाई जाएगी। No State matters will be raised here.

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया: अध्यक्ष महोदया, इनको उत्तेजित होने की आदत है।...(व्यवधान)

इन्हें कह दें कि आराम से बैठ जाएं।

माननीय अध्यक्ष: आपको भी कहां कह पाई, अब आप क्यों उत्तेजित हो रहे हैं। वे भी ऐसे ही बोल रहे हैं।

...(व्यवधान)

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया:  अध्यक्ष महोदया, जब इनके पास जवाब नहीं होता है, तब ये उत्तेजित हो जाते हैं, क्योंकि इनके पास जवाब नहीं होता है, तो ये ऐसा ही करते हैं।..(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: यह गलत बात है। एक-दूसरे पर एलीगेशन रिकार्ड में नहीं जाएगा।

...(व्यवधान)

 

 

an>

Title: Need to provide stoppage for trains at Maninagar railway station on Ahmedabad-Mumbai rail route.

 

श्री परेश रावल: मैडम, अहमदाबाद रेलवे लाइन के लिए देश का एक बहुत ही व्यस्त रूट है। पूरे देश में सबसे ज्यादा इसी रूट में गाड़ियाँ आती हैं। गुड्स ट्रेन से लेकर पैसेंजर, मेल, एक्सप्रेस, राजधानी, दुरन्तो आदि ट्रेनें इस रूट पर चलती हैं और देश के सभी प्रदेशों को जोड़ती है। अहमदाबाद से पहले करीब चार किलोमीटर की दूरी पर मणिनगर रेलवे स्टेशन है। वह अहमदाबाद का एक महत्वपूर्ण एरिया है, सबसे ज्यादा आबादी उसी इलाके में है, आप यह कह सकते हैं कि अहमदाबाद की लगभग एक-चौथाई आबादी मणिनगर में बसती है। ...(व्यवधान) मणिनगर और अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के बीच लगभग सभी ट्रेन्स सिगनल न मिलने के कारण रुकती हैं, कभी पांच मिनट, कभी दस मिनट और अगर सुर लग गया तो कभी-कभी आधा-आधा घण्टा ट्रेन्स वहां खड़ी रहती हैं।...(व्यवधान) लेकिन इसका फायदा यात्रियों को बिल्कुल नहीं मिलता है।...(व्यवधान) होता यह है कि ट्रेन रुकी है तो सभी...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : इनका भी सुर अच्छा लग जाए, ऐसी प्रार्थना करें।

…(व्यवधान)

श्री परेश रावल: अगर वहां पर ट्रेन रुकती है तो लोग दुस्साहस भी करते हैं, जम्प भी करते हैं और कभी सामने ट्रैक पर गाड़ी आने से एक्सीडेंट्स भी होते हैं, इस तरह काफी लोगों की जान भी गयी है।...(व्यवधान) मेरा कहना है कि अगर मुंबई से अहमदाबाद आने वाली ट्रेन्स का सिर्फ एक या डेढ़ मिनट के लिए मणिनगर पर स्टॉपेज मिले तो यात्रियों को भारी सुविधा होगी, वे यहां से लोकल सिटी बसेस एवं बीआरटीएस का भी लाभ ले सकेंगे, जिसके परिणामस्वरूप अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के पास ट्रैफिक भी कम रहेगा, लोगों को आर्थिक सुविधा भी रहेगी, अति मूल्यवान आयातित पेट्रोल की बचत होगी, लोगों के टाइम की बचत होगी।...(व्यवधान) अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के आस-पास बड़ी-बड़ी मार्केट्स हैं, वहां पर ट्रैफिक की भारी समस्या है, अगर मणिनगर में ट्रेन्स का स्टॉपेज होता है तो यह समस्या भी कम हो जाएगी। अहमदाबाद रेलवे स्टेशन में बहुत सारे प्लेटफार्म्स हैं, बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को एक प्लेटफार्म क्रॉस करके दूसरे प्लेटफार्म पर जाने में दिक्कत होती है और मणिनगर रेलवे स्टेशन में एक ही प्लेटफार्म है, तो लोगों को उसका भी लाभ मिलेगा।...(व्यवधान) आपके माध्यम से मेरी मांग है कि यह सुविधा यात्रियों एवं लोगों के फायदे के लिए रेलवे मंत्री जी उपलब्ध कराएं। धन्यवाद।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष :

 

श्री भैरों प्रसाद मिश्र,

 

कुँवर पुष्पेन्द्र सिंह चन्देल एवं

 

डॉ. किरिट पी. सोलंकी को श्री परेश रावल द्वारा उठाए गए विषय के साथ संबद्ध करने की अनुमति प्रदान की जाती है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : श्री ज्योतिरादित्य जी, बोलिए। मैं आपको एलाऊ कर रही हूं, लेकिन लिस्ट में हमेशा बाकी लोगों पर भी अन्याय हो रहा है। यह पद्धति ठीक नहीं है। बोलिए।

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया (गुना) : अध्यक्ष महोदया, मैं आपका ध्यान दो शर्मनाक घटनाओं की तरफ आकर्षित करना चाहता हूं।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं आपकी भी सुन रही हूं।

…(व्यवधान)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA : Madam Speaker has allowed me. 

THE MINISTER OF URBAN DEVELOPMENT, MINISTER OF HOUSING AND URBAN POVERTY ALLEVIATION AND MINISTER OF PARLIAMENTARY AFFAIRS (SHRI M. VENKAIAH NAIDU): What is this?… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: Why are you opposing it?  Madam Speaker has allowed me to speak. The Chair has allowed me to speak… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU:  Madam, the Parliamentary Forum cannot be misused to dismiss a State Government… (Interruptions)  A State Government cannot be defamed… (Interruptions)  For one hour, they did not allow the business to transact.  They should have the patience.… (Interruptions) They should take the permission of the Chair and then raise it.… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: The Speaker, the Chair has allowed me… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU: You cannot eat the cake and have it again… (Interruptions)

SHRI K.C. VENUGOPAL (ALAPPUZHA): You are criticising the Chair’s ruling… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: You are criticizing the hon. Speaker… (Interruptions)

श्री एम. वैंकैय्या नायडू : चुनी हुई सरकार को गालियां दिया...(व्यवधान) चुनी हुई सरकार को गालियां देना और फिर बाद में इश्यू उठाना, ये दोनों बातें कैसे चलेंगी?...(व्यवधान) मैडम, आप थोड़ा देख लीजिए। रूल्स के मुताबिक नोटिस दिया है तो...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपसे बात करना,...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपकी अनुमति लेकर बोलें, हमें आपत्ति नहीं है। ...(व्यवधान) हम शुरू से कह रहे हैं कि सरकार सभी विषयों के बारे में चर्चा करने के लिए तैयार है, गृहमंत्री जी भी यहां बैठे हैं।...(व्यवधान) मगर एक घण्टे तक हंगामा किया।...(व्यवधान) चुनी हुई पंजाब सरकार को बदनामन करने के लिए नारा दिया और अब भाषण करना चाहते हैं।...(व्यवधान) मैडम,  पहले गलत आरोप लगाना, हंगामा करना और बाद में भाषण देना, दोनों चीजें नहीं चल सकती हैं।...(व्यवधान) You cannot eat the cake and have it again. Please consider, this is not a good practice because every day, it is happening every day, now. I urge upon the hon. Speaker, please understand the sentiments of the House.  My Government in Punjab is an elected Government… (Interruptions)  Anything happening in any State, you cannot hold the State Government responsible… (Interruptions)  Then, you have to dismiss all the  Governments… (Interruptions) कलबुर्गी मामले के लिए क्या कर्नाटक सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) दाभोलकर मामले के लिए महाराष्ट्र की पिछली सरकार को डिसमिस करना था क्या?...(व्यवधान) दादरी घटना के लिए क्या उत्तर प्रदेश सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) जो दादरी की घटना हुई, क्या उसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार को बर्खास्त करना है? नहीं करना चाहिए।...(व्यवधान) मर्यादा होनी चाहिए, मर्यादा का पालन होना चाहिए।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : विजया जी, आप बैठिए। मैं समझ रही हूं।

…(व्यवधान)

HON. SPEAKER:  Shrimati Bijoya Chakravartyji, please take your seat.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Please take your seats.  I am on my legs. आप सभी विभिन्न पार्टियों के 300 से ज्यादा सदस्य हैं, मैं आपका दर्द भी समझ रही हूं। आपको भी, एक प्रकार से, किसी की तानाशाही सहन करना पड़ रही है, लेकिन मैंने इसीलिए कहा भी है कि दूसरों का अधिकार मार कर, वे घण्टा भर ऐसा करते रहे, उसके बाद भी मैं उनको एलाऊ कर रही हूं। यह बात भी सही है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : अब मैंने उनका नाम लिया है, उनको एलाऊ         किया है। सभी से हमेशा मेरी रिक्वेस्ट रहती है कि स्टेट की बात यहां नहीं उठानी है। मुझे लगता है ज्योतिरादित्य जी दो-तीन बार संसद सदस्य रह चुके हैं, इसलिए इस नियम को वह भी अच्छी तरीके से जानते हैं और उसी तरीके से वह बात करेंगे। उसी तरीके से बात करेंगे। I am not allowing.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Nothing will go on record.

… (Interruptions)*

माननीय अध्यक्ष: मैंने पहले ही कहा है कि राज्य के मामले यहां नहीं उठेंगे।

...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: रमा देवी जी, आप एक मिनट बैठ जाएं। ज्योतिरादित्य जी, मैंने पहले ही कहा है कि स्टेट की बात यहां पर नहीं उठाई जाएगी। No State matters will be raised here.

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया: अध्यक्ष महोदया, इनको उत्तेजित होने की आदत है।...(व्यवधान)

इन्हें कह दें कि आराम से बैठ जाएं।

माननीय अध्यक्ष: आपको भी कहां कह पाई, अब आप क्यों उत्तेजित हो रहे हैं। वे भी ऐसे ही बोल रहे हैं।

...(व्यवधान)

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया:  अध्यक्ष महोदया, जब इनके पास जवाब नहीं होता है, तब ये उत्तेजित हो जाते हैं, क्योंकि इनके पास जवाब नहीं होता है, तो ये ऐसा ही करते हैं।..(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: यह गलत बात है। एक-दूसरे पर एलीगेशन रिकार्ड में नहीं जाएगा।

...(व्यवधान)

 

 

an>

Title: Need to provide stoppage for trains at Maninagar railway station on Ahmedabad-Mumbai rail route.

 

श्री परेश रावल: मैडम, अहमदाबाद रेलवे लाइन के लिए देश का एक बहुत ही व्यस्त रूट है। पूरे देश में सबसे ज्यादा इसी रूट में गाड़ियाँ आती हैं। गुड्स ट्रेन से लेकर पैसेंजर, मेल, एक्सप्रेस, राजधानी, दुरन्तो आदि ट्रेनें इस रूट पर चलती हैं और देश के सभी प्रदेशों को जोड़ती है। अहमदाबाद से पहले करीब चार किलोमीटर की दूरी पर मणिनगर रेलवे स्टेशन है। वह अहमदाबाद का एक महत्वपूर्ण एरिया है, सबसे ज्यादा आबादी उसी इलाके में है, आप यह कह सकते हैं कि अहमदाबाद की लगभग एक-चौथाई आबादी मणिनगर में बसती है। ...(व्यवधान) मणिनगर और अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के बीच लगभग सभी ट्रेन्स सिगनल न मिलने के कारण रुकती हैं, कभी पांच मिनट, कभी दस मिनट और अगर सुर लग गया तो कभी-कभी आधा-आधा घण्टा ट्रेन्स वहां खड़ी रहती हैं।...(व्यवधान) लेकिन इसका फायदा यात्रियों को बिल्कुल नहीं मिलता है।...(व्यवधान) होता यह है कि ट्रेन रुकी है तो सभी...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : इनका भी सुर अच्छा लग जाए, ऐसी प्रार्थना करें।

…(व्यवधान)

श्री परेश रावल: अगर वहां पर ट्रेन रुकती है तो लोग दुस्साहस भी करते हैं, जम्प भी करते हैं और कभी सामने ट्रैक पर गाड़ी आने से एक्सीडेंट्स भी होते हैं, इस तरह काफी लोगों की जान भी गयी है।...(व्यवधान) मेरा कहना है कि अगर मुंबई से अहमदाबाद आने वाली ट्रेन्स का सिर्फ एक या डेढ़ मिनट के लिए मणिनगर पर स्टॉपेज मिले तो यात्रियों को भारी सुविधा होगी, वे यहां से लोकल सिटी बसेस एवं बीआरटीएस का भी लाभ ले सकेंगे, जिसके परिणामस्वरूप अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के पास ट्रैफिक भी कम रहेगा, लोगों को आर्थिक सुविधा भी रहेगी, अति मूल्यवान आयातित पेट्रोल की बचत होगी, लोगों के टाइम की बचत होगी।...(व्यवधान) अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के आस-पास बड़ी-बड़ी मार्केट्स हैं, वहां पर ट्रैफिक की भारी समस्या है, अगर मणिनगर में ट्रेन्स का स्टॉपेज होता है तो यह समस्या भी कम हो जाएगी। अहमदाबाद रेलवे स्टेशन में बहुत सारे प्लेटफार्म्स हैं, बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को एक प्लेटफार्म क्रॉस करके दूसरे प्लेटफार्म पर जाने में दिक्कत होती है और मणिनगर रेलवे स्टेशन में एक ही प्लेटफार्म है, तो लोगों को उसका भी लाभ मिलेगा।...(व्यवधान) आपके माध्यम से मेरी मांग है कि यह सुविधा यात्रियों एवं लोगों के फायदे के लिए रेलवे मंत्री जी उपलब्ध कराएं। धन्यवाद।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष :

 

श्री भैरों प्रसाद मिश्र,

 

कुँवर पुष्पेन्द्र सिंह चन्देल एवं

 

डॉ. किरिट पी. सोलंकी को श्री परेश रावल द्वारा उठाए गए विषय के साथ संबद्ध करने की अनुमति प्रदान की जाती है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : श्री ज्योतिरादित्य जी, बोलिए। मैं आपको एलाऊ कर रही हूं, लेकिन लिस्ट में हमेशा बाकी लोगों पर भी अन्याय हो रहा है। यह पद्धति ठीक नहीं है। बोलिए।

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया (गुना) : अध्यक्ष महोदया, मैं आपका ध्यान दो शर्मनाक घटनाओं की तरफ आकर्षित करना चाहता हूं।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं आपकी भी सुन रही हूं।

…(व्यवधान)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA : Madam Speaker has allowed me. 

THE MINISTER OF URBAN DEVELOPMENT, MINISTER OF HOUSING AND URBAN POVERTY ALLEVIATION AND MINISTER OF PARLIAMENTARY AFFAIRS (SHRI M. VENKAIAH NAIDU): What is this?… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: Why are you opposing it?  Madam Speaker has allowed me to speak. The Chair has allowed me to speak… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU:  Madam, the Parliamentary Forum cannot be misused to dismiss a State Government… (Interruptions)  A State Government cannot be defamed… (Interruptions)  For one hour, they did not allow the business to transact.  They should have the patience.… (Interruptions) They should take the permission of the Chair and then raise it.… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: The Speaker, the Chair has allowed me… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU: You cannot eat the cake and have it again… (Interruptions)

SHRI K.C. VENUGOPAL (ALAPPUZHA): You are criticising the Chair’s ruling… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: You are criticizing the hon. Speaker… (Interruptions)

श्री एम. वैंकैय्या नायडू : चुनी हुई सरकार को गालियां दिया...(व्यवधान) चुनी हुई सरकार को गालियां देना और फिर बाद में इश्यू उठाना, ये दोनों बातें कैसे चलेंगी?...(व्यवधान) मैडम, आप थोड़ा देख लीजिए। रूल्स के मुताबिक नोटिस दिया है तो...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपसे बात करना,...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपकी अनुमति लेकर बोलें, हमें आपत्ति नहीं है। ...(व्यवधान) हम शुरू से कह रहे हैं कि सरकार सभी विषयों के बारे में चर्चा करने के लिए तैयार है, गृहमंत्री जी भी यहां बैठे हैं।...(व्यवधान) मगर एक घण्टे तक हंगामा किया।...(व्यवधान) चुनी हुई पंजाब सरकार को बदनामन करने के लिए नारा दिया और अब भाषण करना चाहते हैं।...(व्यवधान) मैडम,  पहले गलत आरोप लगाना, हंगामा करना और बाद में भाषण देना, दोनों चीजें नहीं चल सकती हैं।...(व्यवधान) You cannot eat the cake and have it again. Please consider, this is not a good practice because every day, it is happening every day, now. I urge upon the hon. Speaker, please understand the sentiments of the House.  My Government in Punjab is an elected Government… (Interruptions)  Anything happening in any State, you cannot hold the State Government responsible… (Interruptions)  Then, you have to dismiss all the  Governments… (Interruptions) कलबुर्गी मामले के लिए क्या कर्नाटक सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) दाभोलकर मामले के लिए महाराष्ट्र की पिछली सरकार को डिसमिस करना था क्या?...(व्यवधान) दादरी घटना के लिए क्या उत्तर प्रदेश सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) जो दादरी की घटना हुई, क्या उसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार को बर्खास्त करना है? नहीं करना चाहिए।...(व्यवधान) मर्यादा होनी चाहिए, मर्यादा का पालन होना चाहिए।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : विजया जी, आप बैठिए। मैं समझ रही हूं।

…(व्यवधान)

HON. SPEAKER:  Shrimati Bijoya Chakravartyji, please take your seat.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Please take your seats.  I am on my legs. आप सभी विभिन्न पार्टियों के 300 से ज्यादा सदस्य हैं, मैं आपका दर्द भी समझ रही हूं। आपको भी, एक प्रकार से, किसी की तानाशाही सहन करना पड़ रही है, लेकिन मैंने इसीलिए कहा भी है कि दूसरों का अधिकार मार कर, वे घण्टा भर ऐसा करते रहे, उसके बाद भी मैं उनको एलाऊ कर रही हूं। यह बात भी सही है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : अब मैंने उनका नाम लिया है, उनको एलाऊ         किया है। सभी से हमेशा मेरी रिक्वेस्ट रहती है कि स्टेट की बात यहां नहीं उठानी है। मुझे लगता है ज्योतिरादित्य जी दो-तीन बार संसद सदस्य रह चुके हैं, इसलिए इस नियम को वह भी अच्छी तरीके से जानते हैं और उसी तरीके से वह बात करेंगे। उसी तरीके से बात करेंगे। I am not allowing.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Nothing will go on record.

… (Interruptions)*

माननीय अध्यक्ष: मैंने पहले ही कहा है कि राज्य के मामले यहां नहीं उठेंगे।

...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: रमा देवी जी, आप एक मिनट बैठ जाएं। ज्योतिरादित्य जी, मैंने पहले ही कहा है कि स्टेट की बात यहां पर नहीं उठाई जाएगी। No State matters will be raised here.

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया: अध्यक्ष महोदया, इनको उत्तेजित होने की आदत है।...(व्यवधान)

इन्हें कह दें कि आराम से बैठ जाएं।

माननीय अध्यक्ष: आपको भी कहां कह पाई, अब आप क्यों उत्तेजित हो रहे हैं। वे भी ऐसे ही बोल रहे हैं।

...(व्यवधान)

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया:  अध्यक्ष महोदया, जब इनके पास जवाब नहीं होता है, तब ये उत्तेजित हो जाते हैं, क्योंकि इनके पास जवाब नहीं होता है, तो ये ऐसा ही करते हैं।..(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: यह गलत बात है। एक-दूसरे पर एलीगेशन रिकार्ड में नहीं जाएगा।

...(व्यवधान)

 

 

an>

Title: Need to provide stoppage for trains at Maninagar railway station on Ahmedabad-Mumbai rail route.

 

श्री परेश रावल: मैडम, अहमदाबाद रेलवे लाइन के लिए देश का एक बहुत ही व्यस्त रूट है। पूरे देश में सबसे ज्यादा इसी रूट में गाड़ियाँ आती हैं। गुड्स ट्रेन से लेकर पैसेंजर, मेल, एक्सप्रेस, राजधानी, दुरन्तो आदि ट्रेनें इस रूट पर चलती हैं और देश के सभी प्रदेशों को जोड़ती है। अहमदाबाद से पहले करीब चार किलोमीटर की दूरी पर मणिनगर रेलवे स्टेशन है। वह अहमदाबाद का एक महत्वपूर्ण एरिया है, सबसे ज्यादा आबादी उसी इलाके में है, आप यह कह सकते हैं कि अहमदाबाद की लगभग एक-चौथाई आबादी मणिनगर में बसती है। ...(व्यवधान) मणिनगर और अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के बीच लगभग सभी ट्रेन्स सिगनल न मिलने के कारण रुकती हैं, कभी पांच मिनट, कभी दस मिनट और अगर सुर लग गया तो कभी-कभी आधा-आधा घण्टा ट्रेन्स वहां खड़ी रहती हैं।...(व्यवधान) लेकिन इसका फायदा यात्रियों को बिल्कुल नहीं मिलता है।...(व्यवधान) होता यह है कि ट्रेन रुकी है तो सभी...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : इनका भी सुर अच्छा लग जाए, ऐसी प्रार्थना करें।

…(व्यवधान)

श्री परेश रावल: अगर वहां पर ट्रेन रुकती है तो लोग दुस्साहस भी करते हैं, जम्प भी करते हैं और कभी सामने ट्रैक पर गाड़ी आने से एक्सीडेंट्स भी होते हैं, इस तरह काफी लोगों की जान भी गयी है।...(व्यवधान) मेरा कहना है कि अगर मुंबई से अहमदाबाद आने वाली ट्रेन्स का सिर्फ एक या डेढ़ मिनट के लिए मणिनगर पर स्टॉपेज मिले तो यात्रियों को भारी सुविधा होगी, वे यहां से लोकल सिटी बसेस एवं बीआरटीएस का भी लाभ ले सकेंगे, जिसके परिणामस्वरूप अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के पास ट्रैफिक भी कम रहेगा, लोगों को आर्थिक सुविधा भी रहेगी, अति मूल्यवान आयातित पेट्रोल की बचत होगी, लोगों के टाइम की बचत होगी।...(व्यवधान) अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के आस-पास बड़ी-बड़ी मार्केट्स हैं, वहां पर ट्रैफिक की भारी समस्या है, अगर मणिनगर में ट्रेन्स का स्टॉपेज होता है तो यह समस्या भी कम हो जाएगी। अहमदाबाद रेलवे स्टेशन में बहुत सारे प्लेटफार्म्स हैं, बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को एक प्लेटफार्म क्रॉस करके दूसरे प्लेटफार्म पर जाने में दिक्कत होती है और मणिनगर रेलवे स्टेशन में एक ही प्लेटफार्म है, तो लोगों को उसका भी लाभ मिलेगा।...(व्यवधान) आपके माध्यम से मेरी मांग है कि यह सुविधा यात्रियों एवं लोगों के फायदे के लिए रेलवे मंत्री जी उपलब्ध कराएं। धन्यवाद।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष :

 

श्री भैरों प्रसाद मिश्र,

 

कुँवर पुष्पेन्द्र सिंह चन्देल एवं

 

डॉ. किरिट पी. सोलंकी को श्री परेश रावल द्वारा उठाए गए विषय के साथ संबद्ध करने की अनुमति प्रदान की जाती है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : श्री ज्योतिरादित्य जी, बोलिए। मैं आपको एलाऊ कर रही हूं, लेकिन लिस्ट में हमेशा बाकी लोगों पर भी अन्याय हो रहा है। यह पद्धति ठीक नहीं है। बोलिए।

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया (गुना) : अध्यक्ष महोदया, मैं आपका ध्यान दो शर्मनाक घटनाओं की तरफ आकर्षित करना चाहता हूं।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं आपकी भी सुन रही हूं।

…(व्यवधान)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA : Madam Speaker has allowed me. 

THE MINISTER OF URBAN DEVELOPMENT, MINISTER OF HOUSING AND URBAN POVERTY ALLEVIATION AND MINISTER OF PARLIAMENTARY AFFAIRS (SHRI M. VENKAIAH NAIDU): What is this?… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: Why are you opposing it?  Madam Speaker has allowed me to speak. The Chair has allowed me to speak… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU:  Madam, the Parliamentary Forum cannot be misused to dismiss a State Government… (Interruptions)  A State Government cannot be defamed… (Interruptions)  For one hour, they did not allow the business to transact.  They should have the patience.… (Interruptions) They should take the permission of the Chair and then raise it.… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: The Speaker, the Chair has allowed me… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU: You cannot eat the cake and have it again… (Interruptions)

SHRI K.C. VENUGOPAL (ALAPPUZHA): You are criticising the Chair’s ruling… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: You are criticizing the hon. Speaker… (Interruptions)

श्री एम. वैंकैय्या नायडू : चुनी हुई सरकार को गालियां दिया...(व्यवधान) चुनी हुई सरकार को गालियां देना और फिर बाद में इश्यू उठाना, ये दोनों बातें कैसे चलेंगी?...(व्यवधान) मैडम, आप थोड़ा देख लीजिए। रूल्स के मुताबिक नोटिस दिया है तो...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपसे बात करना,...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपकी अनुमति लेकर बोलें, हमें आपत्ति नहीं है। ...(व्यवधान) हम शुरू से कह रहे हैं कि सरकार सभी विषयों के बारे में चर्चा करने के लिए तैयार है, गृहमंत्री जी भी यहां बैठे हैं।...(व्यवधान) मगर एक घण्टे तक हंगामा किया।...(व्यवधान) चुनी हुई पंजाब सरकार को बदनामन करने के लिए नारा दिया और अब भाषण करना चाहते हैं।...(व्यवधान) मैडम,  पहले गलत आरोप लगाना, हंगामा करना और बाद में भाषण देना, दोनों चीजें नहीं चल सकती हैं।...(व्यवधान) You cannot eat the cake and have it again. Please consider, this is not a good practice because every day, it is happening every day, now. I urge upon the hon. Speaker, please understand the sentiments of the House.  My Government in Punjab is an elected Government… (Interruptions)  Anything happening in any State, you cannot hold the State Government responsible… (Interruptions)  Then, you have to dismiss all the  Governments… (Interruptions) कलबुर्गी मामले के लिए क्या कर्नाटक सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) दाभोलकर मामले के लिए महाराष्ट्र की पिछली सरकार को डिसमिस करना था क्या?...(व्यवधान) दादरी घटना के लिए क्या उत्तर प्रदेश सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) जो दादरी की घटना हुई, क्या उसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार को बर्खास्त करना है? नहीं करना चाहिए।...(व्यवधान) मर्यादा होनी चाहिए, मर्यादा का पालन होना चाहिए।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : विजया जी, आप बैठिए। मैं समझ रही हूं।

…(व्यवधान)

HON. SPEAKER:  Shrimati Bijoya Chakravartyji, please take your seat.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Please take your seats.  I am on my legs. आप सभी विभिन्न पार्टियों के 300 से ज्यादा सदस्य हैं, मैं आपका दर्द भी समझ रही हूं। आपको भी, एक प्रकार से, किसी की तानाशाही सहन करना पड़ रही है, लेकिन मैंने इसीलिए कहा भी है कि दूसरों का अधिकार मार कर, वे घण्टा भर ऐसा करते रहे, उसके बाद भी मैं उनको एलाऊ कर रही हूं। यह बात भी सही है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : अब मैंने उनका नाम लिया है, उनको एलाऊ         किया है। सभी से हमेशा मेरी रिक्वेस्ट रहती है कि स्टेट की बात यहां नहीं उठानी है। मुझे लगता है ज्योतिरादित्य जी दो-तीन बार संसद सदस्य रह चुके हैं, इसलिए इस नियम को वह भी अच्छी तरीके से जानते हैं और उसी तरीके से वह बात करेंगे। उसी तरीके से बात करेंगे। I am not allowing.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Nothing will go on record.

… (Interruptions)*

माननीय अध्यक्ष: मैंने पहले ही कहा है कि राज्य के मामले यहां नहीं उठेंगे।

...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: रमा देवी जी, आप एक मिनट बैठ जाएं। ज्योतिरादित्य जी, मैंने पहले ही कहा है कि स्टेट की बात यहां पर नहीं उठाई जाएगी। No State matters will be raised here.

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया: अध्यक्ष महोदया, इनको उत्तेजित होने की आदत है।...(व्यवधान)

इन्हें कह दें कि आराम से बैठ जाएं।

माननीय अध्यक्ष: आपको भी कहां कह पाई, अब आप क्यों उत्तेजित हो रहे हैं। वे भी ऐसे ही बोल रहे हैं।

...(व्यवधान)

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया:  अध्यक्ष महोदया, जब इनके पास जवाब नहीं होता है, तब ये उत्तेजित हो जाते हैं, क्योंकि इनके पास जवाब नहीं होता है, तो ये ऐसा ही करते हैं।..(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: यह गलत बात है। एक-दूसरे पर एलीगेशन रिकार्ड में नहीं जाएगा।

...(व्यवधान)

 

 

an>

Title: Need to provide stoppage for trains at Maninagar railway station on Ahmedabad-Mumbai rail route.

 

श्री परेश रावल: मैडम, अहमदाबाद रेलवे लाइन के लिए देश का एक बहुत ही व्यस्त रूट है। पूरे देश में सबसे ज्यादा इसी रूट में गाड़ियाँ आती हैं। गुड्स ट्रेन से लेकर पैसेंजर, मेल, एक्सप्रेस, राजधानी, दुरन्तो आदि ट्रेनें इस रूट पर चलती हैं और देश के सभी प्रदेशों को जोड़ती है। अहमदाबाद से पहले करीब चार किलोमीटर की दूरी पर मणिनगर रेलवे स्टेशन है। वह अहमदाबाद का एक महत्वपूर्ण एरिया है, सबसे ज्यादा आबादी उसी इलाके में है, आप यह कह सकते हैं कि अहमदाबाद की लगभग एक-चौथाई आबादी मणिनगर में बसती है। ...(व्यवधान) मणिनगर और अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के बीच लगभग सभी ट्रेन्स सिगनल न मिलने के कारण रुकती हैं, कभी पांच मिनट, कभी दस मिनट और अगर सुर लग गया तो कभी-कभी आधा-आधा घण्टा ट्रेन्स वहां खड़ी रहती हैं।...(व्यवधान) लेकिन इसका फायदा यात्रियों को बिल्कुल नहीं मिलता है।...(व्यवधान) होता यह है कि ट्रेन रुकी है तो सभी...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : इनका भी सुर अच्छा लग जाए, ऐसी प्रार्थना करें।

…(व्यवधान)

श्री परेश रावल: अगर वहां पर ट्रेन रुकती है तो लोग दुस्साहस भी करते हैं, जम्प भी करते हैं और कभी सामने ट्रैक पर गाड़ी आने से एक्सीडेंट्स भी होते हैं, इस तरह काफी लोगों की जान भी गयी है।...(व्यवधान) मेरा कहना है कि अगर मुंबई से अहमदाबाद आने वाली ट्रेन्स का सिर्फ एक या डेढ़ मिनट के लिए मणिनगर पर स्टॉपेज मिले तो यात्रियों को भारी सुविधा होगी, वे यहां से लोकल सिटी बसेस एवं बीआरटीएस का भी लाभ ले सकेंगे, जिसके परिणामस्वरूप अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के पास ट्रैफिक भी कम रहेगा, लोगों को आर्थिक सुविधा भी रहेगी, अति मूल्यवान आयातित पेट्रोल की बचत होगी, लोगों के टाइम की बचत होगी।...(व्यवधान) अहमदाबाद रेलवे स्टेशन के आस-पास बड़ी-बड़ी मार्केट्स हैं, वहां पर ट्रैफिक की भारी समस्या है, अगर मणिनगर में ट्रेन्स का स्टॉपेज होता है तो यह समस्या भी कम हो जाएगी। अहमदाबाद रेलवे स्टेशन में बहुत सारे प्लेटफार्म्स हैं, बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं को एक प्लेटफार्म क्रॉस करके दूसरे प्लेटफार्म पर जाने में दिक्कत होती है और मणिनगर रेलवे स्टेशन में एक ही प्लेटफार्म है, तो लोगों को उसका भी लाभ मिलेगा।...(व्यवधान) आपके माध्यम से मेरी मांग है कि यह सुविधा यात्रियों एवं लोगों के फायदे के लिए रेलवे मंत्री जी उपलब्ध कराएं। धन्यवाद।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष :

 

श्री भैरों प्रसाद मिश्र,

 

कुँवर पुष्पेन्द्र सिंह चन्देल एवं

 

डॉ. किरिट पी. सोलंकी को श्री परेश रावल द्वारा उठाए गए विषय के साथ संबद्ध करने की अनुमति प्रदान की जाती है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : श्री ज्योतिरादित्य जी, बोलिए। मैं आपको एलाऊ कर रही हूं, लेकिन लिस्ट में हमेशा बाकी लोगों पर भी अन्याय हो रहा है। यह पद्धति ठीक नहीं है। बोलिए।

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया (गुना) : अध्यक्ष महोदया, मैं आपका ध्यान दो शर्मनाक घटनाओं की तरफ आकर्षित करना चाहता हूं।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : मैं आपकी भी सुन रही हूं।

…(व्यवधान)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA : Madam Speaker has allowed me. 

THE MINISTER OF URBAN DEVELOPMENT, MINISTER OF HOUSING AND URBAN POVERTY ALLEVIATION AND MINISTER OF PARLIAMENTARY AFFAIRS (SHRI M. VENKAIAH NAIDU): What is this?… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: Why are you opposing it?  Madam Speaker has allowed me to speak. The Chair has allowed me to speak… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU:  Madam, the Parliamentary Forum cannot be misused to dismiss a State Government… (Interruptions)  A State Government cannot be defamed… (Interruptions)  For one hour, they did not allow the business to transact.  They should have the patience.… (Interruptions) They should take the permission of the Chair and then raise it.… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: The Speaker, the Chair has allowed me… (Interruptions)

SHRI M. VENKAIAH NAIDU: You cannot eat the cake and have it again… (Interruptions)

SHRI K.C. VENUGOPAL (ALAPPUZHA): You are criticising the Chair’s ruling… (Interruptions)

SHRI JYOTIRADITYA M. SCINDIA: You are criticizing the hon. Speaker… (Interruptions)

श्री एम. वैंकैय्या नायडू : चुनी हुई सरकार को गालियां दिया...(व्यवधान) चुनी हुई सरकार को गालियां देना और फिर बाद में इश्यू उठाना, ये दोनों बातें कैसे चलेंगी?...(व्यवधान) मैडम, आप थोड़ा देख लीजिए। रूल्स के मुताबिक नोटिस दिया है तो...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपसे बात करना,...(व्यवधान) शान्ति से नोटिस देना, आपकी अनुमति लेकर बोलें, हमें आपत्ति नहीं है। ...(व्यवधान) हम शुरू से कह रहे हैं कि सरकार सभी विषयों के बारे में चर्चा करने के लिए तैयार है, गृहमंत्री जी भी यहां बैठे हैं।...(व्यवधान) मगर एक घण्टे तक हंगामा किया।...(व्यवधान) चुनी हुई पंजाब सरकार को बदनामन करने के लिए नारा दिया और अब भाषण करना चाहते हैं।...(व्यवधान) मैडम,  पहले गलत आरोप लगाना, हंगामा करना और बाद में भाषण देना, दोनों चीजें नहीं चल सकती हैं।...(व्यवधान) You cannot eat the cake and have it again. Please consider, this is not a good practice because every day, it is happening every day, now. I urge upon the hon. Speaker, please understand the sentiments of the House.  My Government in Punjab is an elected Government… (Interruptions)  Anything happening in any State, you cannot hold the State Government responsible… (Interruptions)  Then, you have to dismiss all the  Governments… (Interruptions) कलबुर्गी मामले के लिए क्या कर्नाटक सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) दाभोलकर मामले के लिए महाराष्ट्र की पिछली सरकार को डिसमिस करना था क्या?...(व्यवधान) दादरी घटना के लिए क्या उत्तर प्रदेश सरकार को डिसमिस करना है?...(व्यवधान) जो दादरी की घटना हुई, क्या उसके लिए उत्तर प्रदेश सरकार को बर्खास्त करना है? नहीं करना चाहिए।...(व्यवधान) मर्यादा होनी चाहिए, मर्यादा का पालन होना चाहिए।...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : विजया जी, आप बैठिए। मैं समझ रही हूं।

…(व्यवधान)

HON. SPEAKER:  Shrimati Bijoya Chakravartyji, please take your seat.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Please take your seats.  I am on my legs. आप सभी विभिन्न पार्टियों के 300 से ज्यादा सदस्य हैं, मैं आपका दर्द भी समझ रही हूं। आपको भी, एक प्रकार से, किसी की तानाशाही सहन करना पड़ रही है, लेकिन मैंने इसीलिए कहा भी है कि दूसरों का अधिकार मार कर, वे घण्टा भर ऐसा करते रहे, उसके बाद भी मैं उनको एलाऊ कर रही हूं। यह बात भी सही है।

…(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष : अब मैंने उनका नाम लिया है, उनको एलाऊ         किया है। सभी से हमेशा मेरी रिक्वेस्ट रहती है कि स्टेट की बात यहां नहीं उठानी है। मुझे लगता है ज्योतिरादित्य जी दो-तीन बार संसद सदस्य रह चुके हैं, इसलिए इस नियम को वह भी अच्छी तरीके से जानते हैं और उसी तरीके से वह बात करेंगे। उसी तरीके से बात करेंगे। I am not allowing.

… (Interruptions)

HON. SPEAKER: Nothing will go on record.

… (Interruptions)*

माननीय अध्यक्ष: मैंने पहले ही कहा है कि राज्य के मामले यहां नहीं उठेंगे।

...(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: रमा देवी जी, आप एक मिनट बैठ जाएं। ज्योतिरादित्य जी, मैंने पहले ही कहा है कि स्टेट की बात यहां पर नहीं उठाई जाएगी। No State matters will be raised here.

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया: अध्यक्ष महोदया, इनको उत्तेजित होने की आदत है।...(व्यवधान)

इन्हें कह दें कि आराम से बैठ जाएं।

माननीय अध्यक्ष: आपको भी कहां कह पाई, अब आप क्यों उत्तेजित हो रहे हैं। वे भी ऐसे ही बोल रहे हैं।

...(व्यवधान)

श्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया:  अध्यक्ष महोदया, जब इनके पास जवाब नहीं होता है, तब ये उत्तेजित हो जाते हैं, क्योंकि इनके पास जवाब नहीं होता है, तो ये ऐसा ही करते हैं।..(व्यवधान)

माननीय अध्यक्ष: यह गलत बात है। एक-दूसरे पर एलीगेशन रिकार्ड में नहीं जाएगा।

...(व्यवधान)

 

 

Developed and Hosted by National Informatics Centre (NIC)
Content on this website is published, managed & maintained by Software Unit, Computer (HW & SW) Management. Branch, Lok Sabha Secretariat